Friday, March 18, 2011

अमन के रंग से रंग दें चलो इस बार की होली


अमन के रंग से रंग दें
चलो इस बार की होली
मिटा कर भेद मिल जाएँ
कोई मज़हब हो या बोली

करें आओ दुआ मिलकर
क़ि इस धरती के सीने पर
खिलें हों फूल हर ज़ानिब
ना हो बंदूक ना गोली

मिटा दो दाग नफ़रत के
उड़ा दो रंग खुशियों के
लगा दो सबके माथे पर
गुलाल-ए-इश्क़ की रोली

अमन के रंग से रंग दें
चलो इस बार की होली

2 comments:

आपकी टिप्पणी हमारे लिए बहुमूल्य है..........