Thursday, July 16, 2009

काश कभी ऐसा हो सकता

काश कभी हम यूँ कर सकते
वक़्त के मुँह पर उंगली रखते
भीड़ की आँखें बंद करते
और चाँद को तोड़ा मद्धम करते
खुला छोड़ देते भीतर के
चोर को अपने
जो जी मे आए,वो करते
काश कभी हम यूँ कर सकते

काश कभी ऐसा होता
हम गुम हो सकते
तुम मेरे संग बैठी होती
और मैं तेरे रुखसारों पर
उलझी ज़ुल्फ़ो को सुलझाता
काश कभी ऐसा भी होता

काश कभी ऐसा होता कि
मीलों की दूरियाँ ये अपनी
हाथों के जितनी हो जातीं
बादल अपने दोस्त हैं सारे
सूरज को वो ढक लेते तब
और मैं तेरे चेहरे की
हर नस को छूता
हर वो बात जो होंठों तक
आते-आते रुक जाती है
तुमसे कह सकता
काश कभी ऐसा हो सकता

काश कभी ऐसा होता कि
चाँद तुम्हारा हाथ पकड़कर
दुल्हन के पैरहन मे तुमको
मेरे दरवाज़े तक लाता
चाँदनी का वो घूँघट तेरा
जब मैं अपने हाथों से
तेरी सूरत से अलग हटाता
फूल बरसते आसमान से
रोशन हो जाता हर लम्हा
काश कभी ऐसा हो सकता

काश कभी ऐसा होता कि
सुबह ये मेरी तेरी नज़रों के
छींटों से खुलती और
शाम तुम्हारे रूपों की
परछाईं लेकर ढलती और
रात तुम्हारे साए की
सरगोशी मे ही कट जाती
सारा दिन तेरे रंगों की
खुश्बू मे महका करता

और भी जाने कैसे कैसे
ख्वाब दिखाया करता है दिल
काश की तुमको भी ऐसे ही
ख्वाब दिखाया करता हो दिल
काश की ये सब कुछ हो सकता
काश कभी ऐसा हो सकता

1 comment:

  1. और भी जाने कैसे कैसे
    ख्वाब दिखाया करता हो दिल
    काश की ये सब कुछ हो सकता
    काश कभी ऐसा हो सकता

    sweet & pretty beautiful...because it is ad dream..."Kaash" hope one day at least few things will become true...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारे लिए बहुमूल्य है..........